हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Monday, April 8, 2013

''यादें याद आती हैं.....''




तेरी यादें याद आती हैं,हर पल हमें तड़पाती हैं,
कोशिश करो कितनी भी,मेरा सुकून ले जाती हैं|
  
करेंगे याद तुमको रात दिन,पर नहीं पुकारेंगे|
यादें भूलने की कोशिश तुम्हारी,हम भी देखेंगे|

रखेंगे हाथ दिल पर और आँखें बंद कर लेंगे, 
याद कब तक ना आएगी हमारी,हम भी देखेंगे|

तुम्हे महसूस करके अपने दिल की धड़कन में,
बंद आँखो से यह नज़ारा,आज हम भी देखेंगे|

धड़कन में बसे हो तुम,या साँसें चल रही तुम से,
यह अहसासों के अफ़साने को,जिंदा हम भी देखेंगे|

द्रवित ह्रदय के आंसुओं से,नयन जब छलक जायेंगे,
अहसासों की 'सरिता' का ,यूँ बहना हम भी देखेंगे ||

   'बस यूँ ही ....."यादें" बहुत याद आती हैं.......'



Post A Comment Using..

31 comments :

  1. बहुत ही सूंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 10/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 10/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज मंगलवार (09-04-2013) के मंगलवारीय चर्चा ---(1209)--करें जब पाँव खुद नर्तन (मयंक का कोना) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर!

    ReplyDelete
  7. लिंक का कलर डार्क रंग का रखिए सरिता जी। कमेंट में लिंक कलरलैस हो जाता है!

    ReplyDelete
  8. सुन्दर
    आदरणीया ||

    ReplyDelete
  9. यादों का महकता हुआ सुंदर गुलदस्ता, वाह !!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  10. Replies
    1. bahut sundar waah teri mehafil me aakar rahg ki ganga ham bhi dekhenge ...

      Delete
  11. sach kaha yaadein bahut yaad aati hain ........bas yoon hi

    ReplyDelete
  12. बहुत ही बेहतरीन ग़ज़ल की प्रस्तुति.कमेंट्स के शब्द किधर गए.

    ReplyDelete
  13. उम्दा,बहुत प्रभावी सुंदर गजल!!! सरिता जी

    recent post : भूल जाते है लोग,

    ReplyDelete

  14. भावपूर्ण सुंदर रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सुंदर प्रस्तुति

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों

    ReplyDelete
  15. आज की ब्लॉग बुलेटिन दिल दा मामला है - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  16. hindi or urdu ka sangam ,bahut best.

    ReplyDelete
  17. वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  18. तेरी महफ़िल में किस्मत आजमा कर हम भी देखेंगे.....
    बढ़िया ग़ज़ल...
    अनु

    ReplyDelete
  19. अनूठा भाव लिए खुबसूरत अभिव्यक्ति
    LATEST POSTसपना और तुम

    ReplyDelete
  20. सरिता जी सुन्दर पोस्ट /रचना |आभार

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  22. बहुत खूब ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  23. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति हार्दिक बधाई प्रिय सरिता जी

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर....बेहतरीन रचना
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    ReplyDelete