हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Thursday, February 14, 2013

''बसंत है आया''


                                          ए माँ शारदे,हम सबको ऐसा वर दो,
                                          खुशियों से सबका घर तुम भर दो!
       



                                             श्वेत वरण में कमल पर विराजे,
                                             हमारा भी मन कमल सा खिला दे!

                                             धरती ने ली है पीली चादर ओढ़,
                                             मोर की सवारी में लगे तू बेजोड़!

                                           सतरंगी पतंगो का गगन में विस्तार,
                                            बच्चों के मन में लाए उमंगें अपार!

                                            वीणा से प्यार की 'सरिता 'यूँ बहा दो,
                                            उज्ज्वल भविष्य कर जीवन महका दो!

                                            बुद्दि से प्रखर कर अहम को मिटा दो,
                                            विद्द्या का दान देकर बुराइयाँ हटा दो!
   
                                            पीले वस्त्र पहन,सब पीला प्रसाद खाएँ,
                                            सरस्वती की पूजा कर,खुशियाँ मनाएँ!
     





                                       'बसंत है आया' तुम भी गुलाब ले आओ,
                                       बसंत संग तुम भी'वेलिंटाइन डे'मनाओ!!

Post A Comment Using..

23 comments :

  1. बसन्त पंचमी की हार्दिक शुभ कामनाएँ!


    दिनांक 15 /02/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशवंत जी शुक्रिया,आपको भी हार्दिक बधाई

      Delete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रविकर जी आभार,स्नेह बनाए रखें

      Delete
  3. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .बसन्त पंचमी की हार्दिक शुभ कामनाएँ!
    प्यार पाने को दुनिया में तरसे सभी, प्यार पाकर के हर्षित हुए हैं सभी
    प्यार से मिट गए सारे शिकबे गले ,प्यारी बातों पर हमको ऐतबार है

    प्यार के गीत जब गुनगुनाओगे तुम ,उस पल खार से प्यार पाओगे तुम
    प्यार दौलत से मिलता नहीं है कभी ,प्यार पर हर किसी का अधिकार है

    ReplyDelete
  4. शुभ बसंत ....माँ सरस्वती को नमन

    ReplyDelete
  5. sunder prastuti. happy basant panchami!

    ReplyDelete
  6. अब तो लगता है कि बसन्त आया है!
    माता का गान सभी ने गाया है!
    सुन्दर रचना...बसन्तपञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
    Replies
    1. गुरु जी शुभाषीश एवं स्नेह बनाए रखें

      Delete
  7. बहुत सुंदर लिखा पहले अपने पर्व फिर दूसरे बसंत पंचमी के साथ गुलाब ले आओ बहुत सार्थक बात आप को बसंत पंचमी की शुभकामनाये

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी लाज़वाब रचना पढ़ी राजेश दीदी,हौंसला अफ़साई के लिए शुक्रिया

      Delete
  8. सुन्दर प्रार्थना .वसंत पंचमी की शुभकामनाएं !!
    Latest post हे माँ वीणा वादिनी शारदे !

    ReplyDelete
  9. Replies
    1. शुक्रिया,अंजू जी

      Delete
  10. वाह ... बहुत खूब

    बसंत पंचमी की अनंत शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  11. वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ! क्षमा करें, माँ सरस्वती की वन्दना के साथ हैप्पी वैलेंटाईन देख कुछ अजीब सा लगा...

    ReplyDelete
  12. कम से कम सद्बुद्धि तो दे ही दे माँ.....

    ReplyDelete
  13. वहा क्या बात है बशंत ऋतू की बहुत 2 बधाई
    उत्कर्ष रचना
    मेरी नई रचना
    फरियाद
    एक स्वतंत्र स्त्री बनने मैं इतनी देर क्यूँ
    दिनेश पारीक

    ReplyDelete