हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Saturday, March 16, 2013

''..होली है ..''






             बसंती हवाओं का जैसे ही फेरा हो गया, 
           फाल्गुन के आते ही रंगीन सवेरा हो गया| 


आओ सब मिल होली मिलन मनाएँ,
नफ़रत और गिले शिकवों को भूल|






                          खुश्बू से महका है सारा आलम,
                    कुदरत ने सुन्दर बिखेरे है फूल|

     




                            नीला,पीला,हरा, लाल ,गुलाबी,
                          गलियों में उठी है रंगों की धूल|
   


दीन दुखियों में यूँ प्यार रंग बाँटो,
रहे ना किसी के मन में कोई शूल|






                           गुस्सा छोड़ो,गले से लग जाओ,
                            हो जाओ चाचा तुम अब कूल|

  





                           पिचकारी,गुब्बारे,गुलाल लाओ,
                           गलियों में बनाओ रंगों के पूल|


हुड़दंग करो टोलियाँ बना आओ,
रहे ना आज कोई नफ़रत का रूल|
..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..,..