हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Monday, December 2, 2013

तरही गजल

११२१२     ११२१२     ११२१२     ११२१२ 
जो अवाम की भी पसंद हो,कभी सोचता जो बुरा न हो 
मुझे आदमी वो बना खुदा कभी जिससे कोई खता न हो /

'मुझे दे खुदा तू वो नेमतें तेरी बन्‍दगी में रहूँ सदा' 
कहीं जानवर मेरे भीतरी कभी मुँह उठा के खड़ा न हो /

बनी दरमियाँ यही दूरियां मुझे सालती दिनों रात हैं 
मिटा दूरियां मेरे वास्ते चला पास आ यूँ खफा न हो /

मुझे छोड़ दे यहीं राह में मुझे इंतज़ार है यार का 
'इसी मोड़ पर मेरे वास्ते वो चराग ले के खड़ा न हो ' /

मेरी मखमली सी है रूह जो मुझे चुभ रही किसी शूल सी 
मुझे क्‍यूँ सज़ा ये मिली बता जो गुनाह मुझसे हुआ न हो /

बढ़ी बेटियाँ रहीं पूछती तू उदास क्यों है पिता बता 
क्या समझ सके वो है गर्दिशें जो पिता अभी बना न हो /
*****