हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Wednesday, January 22, 2014

गजल


1 2 2 2   1 2 2 2 

दिलों को जो सुहाते हैं /
दिलों पे जाँ लुटाते हैं /

निगाहों से क़त्ल करके
मुझे कातिल बनाते हैं /

दिलों के हैं अजब रिश्ते 
सदा अपने निभाते हैं /

यूँ पल पल मर रही हूँ मैं 
मुझे जिन्दा बताते हैं /

सभी अपने तुम्हारे बिन 
मुझे जीना सिखाते हैं /

सुना है ऐसे में अपने 
भी दामन छोड़ जाते हैं /

...................