हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Monday, September 8, 2014

नदिया के तीर [कुण्डलिनी]

इक नदिया के तीर दो, जैसे चलते साथ 
मिलन असंभव है मगर, रहे हाथ में हाथ |
रहे हाथ में हाथ ,दुःख सुख ऐसे बाँटें  
होता सच्चा प्यार ,फूल बनें तभी काँटें |
*****