हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Wednesday, October 31, 2012

''...दूरी का मीठा अहसास...''



आँखों से जो दूर होते हैं,
शायद दिल के वो करीब होते हैं !
इसलिए नही रोती आँखें ,
उनकी याद में दिल ही रोते हैं !
दूरी के मीठे अहसास को,
कुछ इस तरह हम जीते हैं !
दिल के जो करीब होते हैं,
उन्हें पाकर ही हम खुश होते हैं !

पाकर कुछ अनकही यादें ,
ना जाने हम क्या क्या खोते हैं !
उनसे अगर मिल पाएँ कभी,
तो बहुत अच्छे नसीब होते हैं !!