हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Thursday, February 21, 2013

''..महाकुंभ..''


महाकुंभ का देखो कैसा मेला
इलाहाबाद में दुनिया का रेला



कुंभ में संस्कृति की झलक देखो
थम जाएँ साँसें जो अपल्क देखो

हो कोई पूर्ववासी या पश्चिम से आया
संगम में जाकर सबने डुबकी लगाया

बढ़ी अद्भुत है यह अखाड़ों की दुनिया
अटल है यह अपने संस्कारों की दुनिया






कोई वस्त्र त्यागे,कोई नाख़ून बढ़ाए
कैसे कैसे बैठे हैं ये रूप अपनाए

शिव की जटाओं से गंगा जैसे बहती
इनकी जटाएँ क्या क्या कहानी कहती




इतने बढ़ जाएँ पाप जब धरती बोझिल हो जाए
पूरी धरती एक दिन कहीं ना गंगा में समा जाए


''महाकुंभ'' का मेला हर साल आना चाहिए
ऐसे ही सही धरती का बोझ तो हटाना चाहिए


Post A Comment Using..

19 comments :

  1. कुम्भ का बढ़िया चित्र खींचा है आपने!

    ReplyDelete
  2. सरिता जी महाकुम्भ का बेहद सुन्दर वर्णन किया है, हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  4. रविकर जी धन्यवाद ,मेरी रचना को चर्चा मंच पर लाने के लिए

    ReplyDelete
  5. सरिता जी कुम्भ मेले की खूबसूरत तस्वीरों से सजी बढ़िया प्रस्तुति के लिए साधुवाद |
    आशा

    ReplyDelete
    Replies
    1. नमस्कार आशा जी ,स्नेह बनाये रखें,शुक्रिया

      Delete
  6. वाकई ..महाकुम्भ अपने आप में एक पूरी दुनिया है..........सुन्दर विवरण !

    ReplyDelete
  7. महा कुम्भ का सजीव चित्रण

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर वहा वहा क्या बात है अद्भुत, सार्थक प्रस्तुति
    मेरी नई रचना
    खुशबू
    प्रेमविरह

    ReplyDelete
  9. आप की ये खूबसूरत रचना शुकरवार यानी 22 फरवरी की नई पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है...
    आप भी इस हलचल में आकर इस की शोभा पढ़ाएं।
    भूलना मत

    htp://www.nayi-purani-halchal.blogspot.com
    इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है।

    सूचनार्थ।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर -सचित्र -जैसे सामने देख लिया हो !

    ReplyDelete
  11. महाकुम्भ का सुन्दर शब्द चित्र खींचा है ! तस्वीरें भी आकर्षक हैं ! घर बैठे इलाहाबाद के मेले की सैर करा दी आपने ! आभार आपका !

    ReplyDelete
  12. कुम्भ को शब्दों के माध्यम से सजीव कर दिया. बहुत खूब.
    सादर
    नीरज 'नीर'
    www.kavineeraj.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. kumbh ko shabdo ki mala me piroti sundar prastuti

    ReplyDelete
  14. महाकुम्‍भ की इस सचित्र प्रस्‍तुति के लिये बहुत - बहुत आभार

    ReplyDelete
  15. महाकुम्भ का सुन्दर शब्द चित्र खींचा है . बेह्तरीन अभिव्यक्ति .शुभकामनायें.

    ReplyDelete