हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Wednesday, August 7, 2013

कभी मिल हमें तू फ़ुर्सत में

कभी मिल हमें तू फ़ुर्सत में,
तो हाले दिल सुनाएँ हम|

वो बीते लम्हे याद करें,
तेरे संग समय बिताएं हम |
वो खट्टी मीठी बातों संग ,
उन यादों में खो जाएँ हम | 

कभी मिल हमें तू फ़ुर्सत में,
तो हाले दिल सुनाएँ हम |

चाँद की शीतल चाँदनी में,
तेरे साथ में यूँ खो जाएँ हम |
बाँटें गम अपने,मन हल्का हो,
यूँ जन्नत में हो आएँ हम |

कभी मिल हमें तू फ़ुर्सत में,
तो हाले दिल सुनाएँ हम |

तारों का हो आशियाना,
तेरे कंधे पर सर टिकाएँ हम |
साँसों से साँसें जोड़कर,
अश्कों में गम बहाएँ हम |

कभी मिल हमें तू फ़ुर्सत में,
तो हाले दिल सुनाएँ हम ||
   .............................