हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Thursday, September 19, 2013

कुण्डलिया [गजानन]

पाकर रूप नया गजा, आ गए जब द्वार 
जीवन भर उत्साह से, करते नव संचार //
करते नव संचार ,दामन ख़ुशी से भरकर  
करते हमें निहाल, सभी कष्टों को हरकर   
करें विदाई आज ,गीत मंगल के गाकर   
आना अगले बरस ,रूप अभिनव ही पाकर 
***********