हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Sunday, October 20, 2013

दिलों के जख्म सीले हैं

दिले नादाँ  पिया आना 
गिले शिकवे मिटा जाना
दिलों के जख्म सीले हैं 
उन्हें मरहम लगा जाना /

सनम यह बेरुखी क्यों है ?
जरा आकर बता जाना /


सनम मुझसे खफा क्यों हो ?
वो हाले दिल सुना जाना /

नहीं तकरार करना अब 
करें इज़हार आ जाना /

अभी मजबूरियां क्या हैं ?
कहे सरिता बता जाना //