हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Saturday, December 7, 2013

तुम वोही हो ...

आज अपनी शादी को 24 बरस हो गए ,
एक पुरानी लिखी रचना पर आप सबका आशीर्वाद चाहती हूँ !


जिसने पलकों से चुने हैं दर्द मेरे
तुम वोही हो पागल हमदर्द मेरे /

जिसने दुख के दरिया में ना डूबने दिया
बनकर नाव पाँव मेरा उसमें रख दिया /

जिसने ज़िंदगी के अंधेरों में ना खोने दिया
मेरे वास्ते उजालों को गुलाम रख लिया /

जिसने आईने की तरह मेरा ख्याल रखा है
कहीं टूट ना जायूं ऐसे संभाल रखा है /

जिसने दुआओं से बलायों को रोक रखा है
ऐसे ढाल बनाकर हाथों को जोड़ रखा है /

जिसने ना छूने दिया धूप को ऐसे रोक रखा है
मेरे लौटने पे छाँव को ऐसे निकाल रखा है /

जिसने बिछूड़ कर दुनिया की ठोकरों में ना खोने दिया
ऐसे बाँधा अपने अहसासों से ना कभी रोने दिया /

जिसने प्यार के इस रिश्ते को विश्वास दिया है
इसे निभाकर एक सुंदर सा अहसास दिया है /

जिसने अपनी क़ाबलियत से हैरत में डाल रखा है
मेरे हर मसले का हल जैसे निकाल रखा है /

जिसने कहा ना छूने पाएँ जमाने की गरम हवाएँ
ऐसे दे डाली हैं मुझे दुनिया भर की दुआएँ /

जिसने इस दिल की धड़कन बनकर सकूँ दिया है
मेरी हर साँस ने उधार साँस उसी से लिया है /

जिसने मेरे होने को वाजिब वजूद दिया है
मेरी हर मुश्किल को ऐसे आसान किया है /
                    16 फरवरी,2012...