हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Tuesday, January 7, 2014

यादों का वो इक सफ़र है नाम दे गया

जाने वाला साल सब सुख चैन ले गया 
नयनों में है नीर दिल में दर्द दे गया /

क्या मनाएं साल उस बिन अब लगे न दिल 
एक झटके में सभी अरमान ले गया /

मुस्कराएँ हम क्या तेरे बिन ओ साथी अब
खुशिओं का तू सारा ही सामान ले गया /

उसकी हर आहट का होता है मुझे गुमाँ
खुद को समझायें क्या वो संसार से गया /

याद आती उसकी है अब रात रात भर 
यादों का वो इक सफ़र है नाम दे गया /

काटना है अब अकेले उस बिना सफ़र 
जिन्दगी भर का गमे पैगाम दे गया /