हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Monday, March 31, 2014

नवसंवत्सर दोहावली

चैत्र मास की प्रतिपदा, हर्षित बहुत कृषाण 
नवसंवत्सर के दिवस, हुआ सृष्टि निर्माण |

आप गुड़ी पड़वा कहो ,या हिन्दू नववर्ष 
चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा, सब लें मना सहर्ष |


बसंत के नवरात्रि हैं, भरें ह्रदय उल्लास  
उपासना माँ की सभी, करें संग विश्वास |
विक्रमी संवत है नई, शक संवत भी आज  
दयानंद जी ने रचा, इस दिन आर्य समाज |

उपासना माँ की सभी, करें आज प्रारंभ 
नवरात्रि के आगाज से, मिटते सारे दंभ |

बर्फ लगी है पिघलने, बौराये हैं आम  
रातें घटने हैं लगी, दिन में होता काम |

नव संवत पर संघ भी, सदा निभाए रीत  
जन्म हेडगेवार का, संग मनाए प्रीत |

नव सरंचना के लिए, कुदरत है तैयार
छोड़ आलस्य को बही, चेतन भरी बयार |

नवसंवत्सर अब नया, लाये आशीर्वाद  
सुख समृद्धि का वास हो, रहो सदा आबाद |


*****