हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Wednesday, March 5, 2014

तुम बिन प्रिय

कुछ कम रोशन है रोशनी तुम बिन
बरसात कम है गीली तुम बिन
हवाओं में खुश्बू नहीं है तुम बिन
चाँद की कम है चाँदनी तुम बिन
सूरज करे ना उजाला तुम बिन
घर बन गया मकान है तुम बिन
भंवरे नही हैं गुनगुनाते तुम बिन
थम सा गया है वक्त तुम बिन

पर मेरी हर ख्वाहिश है तुम से
पर अब भी हर सांस में बसे हो तुम
हर धड़कन में आवाज़ है तुम्हारी
हर पल जैसे छू जाते हो दिल को
हर आहट में अहसास है तुम्हारा

पीछे से आकर 
आँखें बंद करते हो
और पूछते हो ,
कौन हूँ मैं?
तुम वोही हो, 
जिसके होने से
चाँद की चाँदनी,
हवाओं की खुश्बू
सूरज का उजाला,
भंवरों का गुंजन,
घर का अहसास 
और 
सबसे ऊपर
जिसके होने से 
मैं हूँ, ,पगले !
...............................