हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Thursday, April 24, 2014

कह मुकरियां 31.से 40.

31.
पर्दूषण उसको ना भाये 
तन लागे शीतल कर जाये 
कहते सभी उसे विदेसी 
क्या सखि साजन ?
ना सखि ऐ सी 
32.
दुनिया में वो सबसे न्यारा 
मैंने सब कुछ उस पर वारा 
उसके संग है मेरी आन
क्या सखि साजन ?
न हिन्दुस्तान 
33.
उसके बिन नीरस है जीना 
हर रिश्ते का वही नगीना 
ह्रदय में बसता बनकर यार 
क्या सखि साजन ?
ना री प्यार 
34.
उसके बिन रिश्ता है झूठा 
ढोंग जरा ना लगे अनूठा
कह पागल या योगी रमता 
क्या सखि साजन ?
ना सखि ममता 
35.
उसे निहारूं दिन से रात 
करता सदा ही सच्ची बात 
उसको जीवन सारा अर्पण 
क्या सखि साजन ?
ना री दर्पण 
36.
गोद में मुझको जब बिठाये 
सपनों का संसार दिखाये
दूर रह दीदार को तरसी 
क्या सखि साजन ?
ना री कुर्सी 
37.
बैठे बैठे जगत घुमाये
हर दुविधा को दूर हटाये
दिन भर करती उसका जाप 
क्या सखि ईश्वर ?
ना लैपटाप 
38.
सांस का लेखा उसके संग 
जीवन में न उस बिन रंग  
महकाये मेरा हर कण कण 
क्या सखि साजन ?
ना सखि धड़कन 
39.
सुबह सवेरे पास बुलाये 
दुनिया के सब राज बताये 
उसका करती मैं इंतज़ार 
क्या सखि साजन ?
नहीं अखबार
40.
मीठी लगती उसकी बात 
साथ वो चिपके दिन औ रात 
सदा बोल वो बोले सच्चा 
क्यों सखि साजन ?
ना सखि बच्चा 

क्रमशः.....