हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Sunday, May 25, 2014

इंसान [कुण्डलिनी ]

मंदिर मस्जिद सोचते ,वो होते इंसान 
जात परिंदों की भली, देखें ना भगवान ||
देखें ना भगवान ,कहीं भी करें बसेरा
यह फितरत इंसान, सोच के डालें डेरा ||
******