हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Wednesday, June 11, 2014

मजदूर [कुण्डलिनी]

कलम बना है फावड़ा स्याही तन की ओस 
लेखन करना रोज है तनिक नहीं अफ़सोस 
तनिक नहीं अफ़सोस नहीं जो रोटी खाई
पालन को सन्तान जोड़नी पाई पाई ||
*****