हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Sunday, January 18, 2015

माँ की बेटी को सीख


लक्ष्मी है तू गेह की, तू मेरा सम्मान 
सबको देना मान तू ,भाई पिता समान |

बेटी है तो क्या हुआ,तू है घर की लाज 
तू मेरा अभिमान है, तू मेरी आवाज |

बनना मत तू दामिनी,सहकर अत्याचार 
लेना दुर्गा रूप तू ,करना तू संहार |

शत्रु सामने हो अगर ,मत होना भयभीत 
करना डट कर सामना, निश्चित होगी जीत |

मत घबराना तू कभी, जो हो जग बेदर्द 
तू है दुर्गा कालिका ,मत सहना तू दर्द |

जिसका तुझसे हो भला,उसके आना काम 
अबला नारी जो दिखे ,उसको लेना थाम ||

******