हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Saturday, January 24, 2015

बसंत दोहावली

माघ शुक्ल की पंचमी ,शुरू हुआ मधुमास
सत्य,स्नेह,साहस सहित,ह्रदय भरे उल्लास |

बसंत ऋतु का आगमन, जाग उठी शुभ चाह
शांत ,शीत, ठंडी पवन , लाई नव उत्साह  |

फूलों की हैं मस्तियाँ ,छाने लगी बहार  
कहें मुबारक आपको ,बसंत का त्यौहार |

वर देना माँ शारदे, विद्द्या ,बुद्दि औ ज्ञान 
प्रफुल्लित ह्रदय आज हो,करें सभी का मान | 

माँ सरस्वती का लगे ,श्वेत धवल शुभ रूप 
हाथों में वीणा लिए ,देवी का स्वरूप |
****