हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Friday, April 17, 2015

फिसल रही है जिंदगी

बढ़ रही हैं इच्छाएं 
अमर बेल की मानिंद 
पिघल रही हूँ मैं 
ग्लेशियर की मानिंद 
फिसल रही है जिंदगी 
रेत की मानिंद 
..............................