हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Monday, September 14, 2015

यादें [मुक्तक]


लफ़्ज मेरे हैं भीग गए जब यादें बरसी सारी रात 
शहर तेरे भी आती होगी यादों वाली यह बरसात 
नव पल्लव सी मुस्काती थी शाखाएं जो तेरे संग 
सूखे पत्तों सी बिखरी हैं पाकर यादों का आघात ।
****