हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Wednesday, July 3, 2013

कुण्डलिया [बरखा]


बरखा छम छम आ गई ,लेकर सुखद फुहार 
सावन के झूले पड़े ,कोयल करे पुकार 
कोयल करे पुकार ,सबहीं का चित चुराए 
मीठे मीठे आम ,सभी के मन को भाए
सखि ना झूला सोहि , ना ही चले अब चरखा
आए अभी सजन न, आ गई है रुत बरखा   

.........................................