हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Sunday, November 3, 2013

दीपावली दोहावली


दीपों की हैं पंक्तियां, दीवाली त्यौहार 
आपस में सब बाँटते ,खुशिओं के उपहार // 

रोशन दीपों संग हो, सुंदर सजे जहान,
लक्ष्मी का हो आगमन ,हों पूरे अरमान //

बना स्वच्छता प्रकाश का, दीवाली है पर्व 
भारतवासी हैं सभी , करते इस पर गर्व //

दिवाली महापर्व है , मनाओ संग प्यार
न पटाखों को सब कहो , मीठा दो उपहार //

धनतेरस से हो शुरू, दूज पर हो समाप्त 
सबके आशीर्वाद से ,खुशियाँ करो प्राप्त //

रामभक्त ख़ुश आज थे, लौटे राजा राम
दिये अयोध्या में जले, लेकर प्रभु का नाम //

नरकासुर मारा गया  ,फैला हर्ष अपार 
सभी कृष्ण भगवान की ,करते जय जय कार //

विष्णु भगवन प्रकट हुए, रूप सिंह का धार 
मुक्त करी जनता सभी ,हिरण्यकश्यप मार //

तीर्थंकार चौबीसवें , जैन थे महावीर 
यह दिन है निर्वाण का ,मनाएं जैनवीर //

महर्षि दयानन्द जी,थे इक आर्य महान 
दीवाली का दिवस ही, बना दिवस अवसान // 

मिटता प्रकाश से तिमिर, विजय देत उल्लास
मत आतिशबाजी करो ,दीवाली तब ख़ास //

*****