हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Friday, January 3, 2014

तरही गजल

जब से उनका यहाँ आना जाना हुआ 
दिल हमारा भी उनका दिवाना हुआ /

साथ तेरे का जो छूट जाना हुआ 
तब से सबका यहाँ आना जाना हुआ /

माँग तेरी भरूं आ सितारों से मैं 
ऐसा कह जो गया फिर न आना हुआ /

माँग सूनी हुई जो सितारों भरी
माथे की बिंदी छिनना बहाना हुआ /

राहतें अब कहाँ चैन दिल को कहाँ  
जख्म अब मत कुरेदो पुराना हुआ /

याद आती रही रात भर थी मुझे 
भूल वो अब गया इक जमाना हुआ /

उसके आने की टूटी है उम्मीद अब 
जब से गैरों के घर आना जाना हुआ /

लाडली ही रही बेटियाँ बाप की
लाड़ छूटे जो पति घर ठिकाना हुआ / 
 ................