हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Saturday, June 7, 2014

माँ [कुण्डलिनी]


माँ में तीरथ हैं सभी माँ में हैं सब धाम 
जीवन तुम संवार लो करो नेक कुछ काम 
करो नेक कुछ काम दान यह सच्चा प्यारे
माँ बिन सूना गेह सब हैं सूने नज़ारे ||
****