हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Tuesday, July 29, 2014

तरही गजल

नश्वर है जिंदगानी खजाना तो है नहीं 
इसको यूँ दाग यार लगाना तो है नहीं |

आई हूँ इस सराय मुसाफिर हूँ दोस्तो 
अपना भी इस जहां में ठिकाना तो है नहीं |

यूँ प्यार से तो माँग लो जान भी मगर
गुस्सा हमें तू यार दिखाना तो है नहीं |

आशिक नही जहान में सच्चा कहें जिसे 
कैसे कहें ह्रदय उसे जाना तो है नहीं |

वादा किया था उसने न छोड़ेंगे साथ हम
थामा है गैर हाथ बताना तो है नहीं |

बस बांटना है प्यार हमें कुल जहान में 
अपना भी कोई ख़ास निशाना तो है नहीं |

हर रोज हैं इमारतें बनती यहाँ वहाँ 
उजड़ा जो आशियाना बनाना तो है नहीं |

भाषण हुए हैं खास कुपोषण के नाम पे  
घर में गरीब के पका खाना तो है नहीं |