हमराही

सुस्वागतम ! अपना बहुमूल्य समय निकाल कर अपनी राय अवश्य रखें पक्ष में या विपक्ष में ,धन्यवाद !!!!

Friday, August 22, 2014

आपकी नजर


कभी रहते थे जो मस्त मस्त 
अब रहने लगे हैं व्यस्त व्यस्त 
वो बना रहे अब दूरी हैं 
या यह उनकी मज़बूरी है 
उनके लिए शायद जो छोटी सी बात है 
मेरे लिए तो यह एक बड़ी करामात है 
ना वो समझें ना मुझे समझ आये 
इसका क्या हल है कोई तो बताये